Home » Health » बच्चों को तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहा है अस्थमा
Health

बच्चों को तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहा है अस्थमा

बच्चों को तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहा है अस्थमा
बच्चों को तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहा है अस्थमा

भारत में लगभग 70 करोड़ लोग कोयला या केरोसिन स्टोव व अन्य घरेलू स्रोतों से निकलने वाले धुएं में सांस लेते हैं। यह धुआं कार्बन कणों, कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रस ऑक्साइड, सल्फर ऑक्साइड, फॉर्मल-डी-हाइड और कैंसर कारक पदार्थ जैसे बेंजीन से भरपूर होता है। एक अध्ययन के अनुसार यह धुआं देश में अस्थमा का एक प्रमुख कारण है और यह बच्चों को तेजी से अपनी गिरफ्त में ले रहा है।

बच्चों में होता है अधिक प्रसार
विश्व स्वास्थ्य संगठन WHO का अनुमान है कि भारत में डेढ़ से 2 करोड़ लोगों को दमा की शिकायत है और यह संख्या कम होने के कोई संकेत नजर नहीं आ रहे। अध्ययनों से यह भी संकेत मिलता है कि बच्चों में अस्थमा का प्रसार अधिक होता है, क्योंकि उनकी सांस की नली छोटी होती है जो प्रदूषकों के कारण संकुचित होती जाती है। IMA के अध्यक्ष डॉ. के. के. अग्रवाल ने कहा, 'अस्थमा एक पुराना श्वसन रोग है। यह ब्रॉन्कियल पैसेज के कम होते जाने का परिणाम है, जो फेफड़ों में ऑक्सिजन ले जाने के लिए जिम्मेदार होता है। अस्थमा के दो कारण हो सकते हैं- वायुमार्ग में बलगम एकत्र होने के कारण फेफड़े में सूजन और वायुमार्ग के चारों ओर की मांसपेशियों के तंग होने के कारण सूजन।'

अलग-अलग तरह का होता है अस्थमा
डॉ. अग्रवाल ने कहा, 'अस्थमा अक्सर खांसी के रूप में शुरू होता है। इस कारण इसे गंभीरता से नहीं लिया जाता है। अक्सर कफ सिरप लेकर इसका इलाज करने की कोशिश की जाती है। बच्चों में इसकी पहचान करना मुश्किल होता है, क्योंकि उनमें श्वसन, घरघराहट, खांसी और छाती की जकड़न आदि लक्षण एकदम से नहीं दिखते। इसके अलावा, प्रत्येक बच्चे का अस्थमा अलग तरह का होता है।' कुछ ऐसे ट्रिगर भी होते हैं जो अस्थमा के दौरे को बदतर बना सकते हैं। एक बार यदि बच्चे को अस्थमा होने का पता लग जाता है, तो घर से उसके कारणों या ट्रिगर्स को हटाने की जरूरत होती है या फिर बच्चे को इनसे दूर रखने की।

READ  इस ऑफिस में काम करने से पहले लड़कियों को करवाना पड़ता है अपना वRजिनिटी टेस्ट...

बच्चों को बनाएं जागरूक
डॉ. अग्रवाल ने बताया, 'युवाओं को यह समझ नहीं आता कि अस्थमा कैसे उनको नुकसान पहुंचा सकता है और इससे उनका दैनिक जीवन कैसे प्रभावित हो सकता है। यहां शिक्षा काम की चीज है। अस्थमा वाले बच्चों के माता-पिता को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि बच्चा अपनी उस हालत के बारे में जागरूक है या नहीं। उसे आपातकालीन परिस्थिति के बारे में भी बता होना चाहिए ताकि मुश्किल होने पर वह मदद मांग सके।'

अस्थमा की रोकथाम के कुछ सुझाव
- बच्चों को नियमित दवाएं लेने में मदद करें
- नियमित रूप से चिकित्सक के पास ले जाएं
- उन्हें केवल निर्धारित दवाएं ही दें
- किसी भी ट्रिगर से बचने के लिए एहतियाती उपाय करें
- इनहेलर हमेशा साथ रखें और सार्वजनिक रूप से इसका इस्तेमाल करने में शर्म महसूस न हो इसके लिए बच्चों को प्रोत्साहित करें
- यदि बच्चे को कोई अन्य बीमारी परेशान कर रही हो तो डॉक्टर को सूचित करें
- तनाव कम करने और शांत व खुश रहने में बच्चे की मदद करें

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

nineteen − five =






Latest News




loading...
WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com