Home » Health » HEALTH & FITNESS » सिर्फ थिरकने के लिए नहीं होती ‘बूटी’, आपकी हेल्थ के बारे में बताती है कई बातें
Health HEALTH & FITNESS

सिर्फ थिरकने के लिए नहीं होती ‘बूटी’, आपकी हेल्थ के बारे में बताती है कई बातें

सिर्फ थिरकने के लिए नहीं होती 'बूटी', आपकी हेल्थ के बारे में बताती है कई बातें
सिर्फ थिरकने के लिए नहीं होती 'बूटी', आपकी हेल्थ के बारे में बताती है कई बातें

थिरका दे बीट पे बूटी' यह गाना तो आपने सुना ही होगा। वैसे आपको बता दें कि 'बूटी' सिर्फ थिरकाने के लिए नहीं होती है। अब आप सोचेंगे कि 'थिरकते हुए देखने के लिए भी होती है।' हाँ! हाँ! आप बिलकुल सही सोच रहे हैं। लेकिन आज हम यहाँ कुछ अलग बात करने वाले हैं।

बूटी, बम, हिप्स या बॉटम जो भी कहो, आपके शरीर का यह हिस्सा आपके स्वास्थ्य के बारे में बहुत कुछ कहता है।अापने कई बार कई लोगों के बॉटम को नोटिस किया होगा। जिस तरह सभी के चेहरे अलग-अलग होते हैं। उसी तरह सभी के बॉटम के शेप भी अलग होते हैं।
विशेषज्ञों ने मुख्य रूप से बॉटम्स के चार टाइप्स बताए हैं। सभी बॉटम्स के हेल्थ के नजरिए से अलग-अलग संकेत भी होते हैं। तो फिर देर किस बात की है। आइए जानते हैं पूरा मामला।
बॉटम के टाइप्स
विशेषज्ञों ने बॉटम को चार कैटेगरी में बांटा है। मुख्य रूप से स्क्वेयर शेप, राउंड शेप, हार्ट शेप और इनवर्टेड वी शेप के बॉटम्स होते हैं।
बॉटम के टाइप्स
स्क्वेयर शेप बॉटम
जब फैट का डिस्ट्रीब्यूशन gluteal muscles में मतलब बॉटम को बनाने वाली तीन मसल्स में होता है, तब बॉटम स्क्वेयर शेप का नजर आता है। इस तरह का बॉटम होने पर फैट वेस्टलाइन के पास जमा होता है।
स्क्वेयर शेप बॉटम
इनका खतरा
वेस्टलाइन के पास फैट जमा होने की वजह से दिल की बीमारियां, हाई ब्लड प्रेशर, स्ट्रोक और डायबिटीज जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।
इनका खतरा
राउंड शेप बॉटम
जब फैट स्क्वेयर शेप बॉटम की तरह gluteal muscles के ऊपरी किनारे नहीं बल्कि उसके ऊपर होता है, तब राउंड शेप बॉटम बनते हैं।
राउंड शेप बॉटम
यह सबसे बेहतर
राउंड बूटिस को 'अच्छा और स्वस्थ' माना जाता है। इस तरह के बॉटम में फैट समान रूप से डिस्ट्रिब्यूट होता है।
यह सबसे बेहतर
हार्ट शेप बॉटम
इस तरह के बॉटम को सबसे आकर्षक माना जाता है। इस तरह के बॉटम में फैट बूटी के निचले हिस्से में होता है और कमर के पास फैट कम ही होता है।
हार्ट शेप बॉटम
यहाँ जमा फैट
यह बॉटम टाइप भले ही आकर्षक होता है मगर जिन महिलाओं की बूटी इस शेप की होती हैं, उनकी ऊपरी जांघों में अधिक फैट जमा होता है। उम्र बढ़ने के साथ यह फैट कम होता है, मगर लाइफ के मीड सेक्शन में फैट फिर बढ़ने लगता है।
यहाँ जमा फैट
इनवर्टेड वी शेप बॉटम
इस तरह का शेप उम्रदराज महिलाओं में अधिक पाया जाता है। ऐसा उनमे मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन हार्मोन का लेवल कम होने का संकेत होता है। इन लोगों में फैट शरीर के अन्य भागों में जमा होता है।
इनवर्टेड वी शेप बॉटम
इस बात पर दें ध्यान
इस शेप वालों में ऊपरी हिस्से में फैट ज्यादा और निचले हिस्से में कम होता है। यदि मिडिल ऐज में वजन को अधिक ना बढ़ने दिया जाए तो इस शेप की वजह से ब्लड प्रेशर और दिल की बीमारियां नहीं होती है।
इस बात पर दें ध्यान
यहाँ फैट होना बेहतर
इन सभी शेप के स्वास्थ्य पर असर की बात की जाए तो विशेषज्ञों के अनुसार बॉटम पर फैट जमा होना वेस्टलाइन के पास फैट जमा होने से बेहतर होता है।

READ  पुनर्नवा जो शरीर के सभी अँगो को पुनः नया जीवन दे सकती है, ये कैन्सर के मरीज़ों के लिए आयुर्वेद जगत की सबसे अद्भुत औषधि है क्यूँकि ये नयी कोशिकाएँ बनाती है



Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 − seven =






Latest News




loading...
WP Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com