Home » Health » HEALTH & FITNESS » लडकियों के लिये फिर से वर्जिN होने का तरीका है आसान, जानें कैसे…
HEALTH & FITNESS

लडकियों के लिये फिर से वर्जिN होने का तरीका है आसान, जानें कैसे…

लडकियों के लिये फिर से वर्जिN होने का तरीका है आसान, जानें कैसे...

वर्जिN का मतलब जिस लड़की ने किसी के साथ शारीरिक संबंध नी बनाये हों। और जो लड़की अपनी जिंदगी में किसी के साथ शारीरिक संबंध बना ले तो वो लड़की नहीं रहती। वैसे तो वर्जिN होना या ना होना इससे कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन हमारे समाज मे आज तक भी इसको काफी महत्व दिया जाता है जो लड़की शादी से पहले अपनी लाइफ में किसी के साथ शारीरिक संबंध बना ले तो समाज में उसकी महत्वता कम दी जाती है। इसलिए हमारे समाज की लड़कियां के लिये ये बेहद जरूरी होती है। वर्जिNIटी खत्म होने से महिलाओं के गुप्तांग में ढीलापन आ जाता है। और कुछ तरीके हैं जिससे ढीलेपन को दूर किया जा सकता है उसके लिये कुछ बाते हम आपके साथ शेयर करने जा रहे हैं…

कोई भी दवाई या गोली का सेवन ना करें…
कोई भी दवाई या गोली का सेवन ना करें...
आपको बता दें की फिर से वर्जिN बनने की कोई दवाई नहीं होती इसलिए कोई भी दवाई ना लें, अगर कोई प्रोड्क्ट ऐसा दावा भी करे तो भी उसपर विशवास मत कीजिए इससे आपको उल्टा कोई साइड इफेक्ट हो सकता है।

प्राकृतिक तरीकों से करें दूर…

गुप्तांग का ढ़ीलापन दूर करने का एक सबसे अच्छा तरीका व्यायाम करना और योग करना हैं। निरंतर व्यायाम और योग करने से गुप्तांगों का ढ़ीलापन दूर किया जा सकता है।


संबंध बनाते समय रखें ये बात ध्यान..


शारीरिक संबंध बनाते समय भी कुछ बातों का ध्यान रखने से गुप्तांगों के ढ़ीलेपन से बचा जा सकता है। दरअसल चरम सीमा पर पहुंचते ही पर गुप्तांगों में मौजूद मांसपेशियों का संकुचन होता है। महिलाएं जितना चरम सीमा पर पहुंचती हैं, मासपेशियां उतनी ही टोन होती हैं, जिससे उनका आकार मजबूत रहता है। और गुप्तांग में ढ़ीलापन नहीं आता।

बच्चे को जन्म देने के बाद पड़ता है ये फर्क…

बच्चे को जन्म देने के बाद पड़ता है ये फर्क...
एक शोध के मुताबिक महिला के बच्चे को जन्म देने के बाद उसके गुप्तांग की मांसपेशियां ढीली पड़ जाती हैं। जिसको दोबारा 6 महिनें में आकार में लाया जा सकता है, जिसमें व्यायाम की जरूरत पड़ती है।

बढ़ती उम्र में पड़ता है फर्क…

बढ़ती उम्र में पड़ता है फर्क...
बढ़ती उम्र के साथ भी फर्क पड़ता रहता है, शोधकर्ताओं का मानना है कि उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं के गुप्तांगों की त्वचा पतली पड़ने लग जाती हैं और उनमें लचीलापन आ जाता है।

READ  दूध में मिलावट को करें घर बैठे चेक, आजमाये ये आसान से तरीके...

उत्तेजना भी हैं जरूरी…
डॉक्टर्स का मानना है कि अगर शारीरिक संबंध बनाते समय महिलाओं के गुप्तांग में ड्राइनेस हो तो इससे भी साइज में फर्क पड़ता हैं इसलिये शारीरिक संबंध बनाने के लिये पहले फोरप्ले जरूरी होता हैं। उत्तेजना के बाद संबंध बनाने से गुप्तांग के आकार पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता।
डॉक्टर्स का मानना है कि अगर शारीरिक संबंध बनाते समय महिलाओं के गुप्तांग में ड्राइनेस हो तो इससे भी साइज में फर्क पड़ता हैं इसलिये शारीरिक संबंध बनाने के लिये पहले फोरप्ले जरूरी होता हैं। उत्तेजना के बाद संबंध बनाने से गुप्तांग के आकार पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता।

Add Comment

Click here to post a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × three =



Latest News




loading...